Chhattisgarh Audhyogikikaran Sanrachna

Chhattisgarh Audhyogikikaran Sanrachna – इसके पहले भाग में हमने  वन आधारित उद्योगों  Chhattisgarh Ke Van Aadharit Udhyog aur Anya Udhyog के विषय में पढ़ा । आज हम छत्तीसगढ़ के औद्योगीकरण संरचना  औद्योगिक क्षेत्र, औद्योगिक विकास केंद्र, औद्योगिक पार्क इत्यादि  के विषय में पढेंगे ।

छतीसगढ़ औद्योगिकीकरण संरचना

Chhattisgarh Audhyogikikaran Sanrachna


Chhattisgarh Audhyogikikaran Sanrachna


छत्तीसगढ़ औद्योगिक क्षेत्र – CHHATTISGARH INDUSTRIAL AREA


  • औद्योगिक क्षेत्र किसी नगर राज्य या अन्य प्रशासनिक भौगोलिक इकाई का वह भाग होता है जिसका प्रयोग अधिकांश रूप से उद्योग के लिए किया जाता है ।
  • इसमें कारखाने एवं अन्य औद्योगिक भवन होते है, और अक्सर लोगों के आवास का कोई प्रबंध नहीं होता ।
  • इस प्रकार औद्योगिक क्षेत्र एक ऐसा क्षेत्र है जहाँ विशेष रूप से कई कारखानों के लिए योजना बने जाति है ।

छत्तीसगढ़ औद्योगिक विकास केंद्र  – CHHATTISGARH INDUSTRIAL DEVELOPMENT CENTER


औद्योगिक विकास केंद्र ऐसे केंद्र होते है जहाँ उद्योगों की स्थापना के लिए सरकार मूलरूप से सुविधाएँ उपलब्ध कराती है ।

छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम लिमिटेड   – CHHATTISGARH INDUSTRIAL DEVELOPMENT CORPORATION LTD ( CSIDC )


स्थापना – 2001
स्थान – रायपुर 
उद्देश्य – औद्योगिक विकास केंद्र को सुविधाएँ प्रदान करना ।
औद्योगिक विकास केंद्र को सड़क, बिजली, पानी एवं अन्य आधारभूत सुविधाएँ उपलब्ध करने की जिम्मेदारी औद्योगिक विकास निगम लि. की होती है । 
क्रियान्वयन – छत्तीसगढ़ सरकार उद्योग निति के आधार पर प्रदेश में उद्योगों का विकास ।

एकीकृत अधोसंरचना विकास केंद्र   – INTEGRATED INFASTRUCTURE DEVELOPMENT CENTER ( IIDC )


भारत सरकार की इस योजना के अंतर्गत राज्य में सूक्ष्म व लघु उद्योगों की स्थापना हेतु IIDC की स्थापना की जाति है ।
नवीनतम योजना के अंतर्गत परियोजना लागत का 60% ( अधिकतम 6 करोड़ ) का अनुदान भारत सरकार द्वारा उपलब्ध कराया जाता है ।
शेष राशि का अंशदान राज्य सरकार द्वारा किया जाता है ।
राज्य में इसकी स्थापना हेतु नोडल एजेंसी CSIDC है ।

छत्तीसगढ़ औधोगिक पार्क    – CHHATTISGARH  INDUSTRIAL PARK

एक स्थान पर एक ही प्रकार के उद्योगों की स्थापना के उद्देश्यों से राज्य सरकार द्वारा औद्योगिक पार्क की स्थापना की जा रही है ।

Chhattisgarh Audhyogik Kshetra ( Industrial Area )

Chhattisgarh Audhyogik Kshetra (Industrial Area ) – छत्तीसगढ़ में औद्योगिक क्षेत्र को चार भागों में बांटा गया है या जा सकता है, वृहद, मध्यम, लघु एवं सूक्ष्म औद्योगिक क्षेत्र । 

इसके पहले हमने \”छतीसगढ़ औद्योगिकीकरण संरचना\” में जाना की औद्योगिक क्षेत्र क्या है, उसको आगे बढ़ाते हुए आज हम अध्योगिक क्षेत्र के बारे में विस्तार से पढेंगे ।

Chhattisgarh Audhyogik Kshetra 

( Industrial Area )

Chhattisgarh Audhyogik Kshetra ( Industrial Area )

औद्योगिक क्षेत्र – INDUSTRIAL AREA

  • औद्योगिक क्षेत्र किसी नगर राज्य या अन्य प्रशासनिक भौगोलिक इकाई का वह भाग होता है जिसका प्रयोग अधिकांश रूप से उद्योग के लिए किया जाता है ।
  • इसमें कारखाने एवं अन्य औद्योगिक भवन होते है, और अक्सर लोगों के आवास का कोई प्रबंध नहीं होता ।
  • इस प्रकार औद्योगिक क्षेत्र एक ऐसा क्षेत्र है जहाँ विशेष रूप से कई कारखानों के लिए योजना बने जाति है ।
औद्योगिक क्षेत्र निम्न प्रकार से है :- 
1. वृहद औद्योगिक क्षेत्र 
2. मध्यम औद्योगिक क्षेत्र 
3. लघु औद्योगिक क्षेत्र 
4. सूक्ष्म औद्योगिक क्षेत्र 

1.वृहद औद्योगिक क्षेत्र                            2.मध्यम  औद्योगिक क्षेत्र

क्षेत्र का नाम                 जिला                                                क्षेत्र का नाम                 जिला                     

उरला                             रायपुर                                              बोरई                             दुर्ग 
सिलतरा                         रायपुर                                              सिलपहरी                      बिलासपुर
सिरगिट्टी                        बिलासपुर                                          भनपुरी                          रायपुर  
सबसे ज्यादा पूंजी निवेश व रोजगार संख्यां – उरला
सबसे वृहद औद्योगिक क्षेत्र – सिलतरा

3.लघु औद्योगिक क्षेत्र                               4.सूक्ष्म औद्योगिक क्षेत्र  

क्षेत्र का नाम                 जिला                     क्षेत्र का नाम           जिला
तिफरा                          बिलासपुर              रांवाभाटा                 रायपुर
लखनपुरी                      कांकेर                   आमाशिवनी             रायपुर      
महरूमकला                 राजनांदगांव             तेंदुआ                      रायपुर 
                                                            बरतोरी-तिल्दा          रायपुर
                                                            अवरेठी                    भाटापारा ( बलोदाबाजार )
                                                            अंजनी                      पेंड्रा रोड ( बिलासपुर ) 
                                                                                   रानी दुर्गावती औद्योगिक क्षेत्र 
                                                             गंगापुरखुर्द                     सरगुजा 

अन्य औद्योगिक क्षेत्र                          

क्षेत्र का नाम                                 जिला 
दगोरी                                             बिलासपुर      
लारा                                               रायगढ़   
पवनतला, बिजेतला, विजयतला        राजनांदगांव
श्यामतराई                                      धमतरी
कांकेर                                            कांकेर 
जशपुर नगर                                   जशपुर 

Chhattisgarh Ke Van Aadharit Udhyog aur Anya Udhyog

Chhattisgarh Ke Van Aadharit Udhyog aur Anya Udhyog – इसके पहले भाग में हमने  कृषि आधारित उद्योगों  Sugar Factory, Rice, Jute and Cloth Udhyog in Chhattisgarh के विषय में पढ़ा । आज हम छत्तीसगढ़ के वन आधारित उद्योगों जैसे  कागज उद्योग , कोसा उद्योग, लाख उद्योग एवं अन्य उद्योग जैसे माचिस एवं बीड़ी उद्योग   के विषय में पढेंगे ।

Chhattisgarh Ke Van Aadharit Udhyog aur Anya Udhyog 

Chhattisgarh Ke Van Aadharit Udhyog aur Anya Udhyog

वन आधारित उद्योग – Forest Based Industries

कागज उद्योग – Paper Industries

छत्तीसगढ़ राज्य में कागज उद्योग के लिए कच्चे माल की आपूर्ति प्रयाप्त मात्रा में उपलब्ध है , जिसके कारण इस उद्योग के विकास के लिए हर संभव प्रयास जारी है । राज्य में मौजूद कागज उद्योग निम्नानुसार है – 
1. ब्रुकबांड कागज मील – Brookbond Paper Mill 
स्थान – ग्राम ढेका, जिला बिलासपुर 
अन्य नाम – कनोई पेपर मील , ओरियन पेपर मील , एजियों पेपर मील ।
2. मध्यभारत पेपर मील – Madhyabharat Paper Mill
स्थान – चाम्पा, जिला जांजगीर चाम्पा  
3. हनुमान एग्रो इंडस्ट्रीज  – Hanuman Agro Industries
स्थान – गरियाबंद
4. पेपर ट्यूब एवं स्ट्राबोर्ड कम्पनी  – Paper Tube & Strawboard Company
स्थान – रायगढ़ 

कोसा उद्योग – Kosa Udhyog

छत्तीसगढ़ राज्य में कोसा के कीड़े मुख्यतः अर्जुन, साजा एवं साल के वृक्षों में पाया जाता है, जो विशेषतः निम्लिखित क्षेत्रों में पाए जाते है –
1. चाम्पा 
2. रायगढ़ 
3. कोरबा 
कोसा अनुसन्धान केंद्र – बस्तर 
विशेष – चंद्रपुर कोसा सिल्क के लिए प्रसिद्ध है ।

लाख उद्योग – Laakh Udhyog

छत्तीसगढ़ राज्य में लाख के कीड़े मुख्यतः कुसुम, पलास आदि वृक्षों में पलते  है, लाख उद्योग का सर्वाधिक संकेन्द्रण \”धमतरी\” जिला है
उपयोग – चूड़िया, आभूषण एवं पेंट बनाने में होता है ।

कत्था उद्योग एवं हर्रा उद्योग – Kattha (Catechu) Udhyog & Harra Udhyog

छत्तीसगढ़ राज्य का एक मात्र कत्था सयंत्रसरगुजा है 
हर्रा उद्योग – धमतरी 

छत्तीसगढ़ अन्य उद्योग – Other Industries in Chhattisgarh

1. बीड़ी एवं सिगरेट उद्योग – Bidi & Cigarate Udhyog 

1. राजनांदगांव
2. बिलासपुर 
3. बस्तर 

2. माचिस उद्योग – Maachis Udhyog 

1. बिलासपुर – इसे छत्तीसगढ़ का शिवाकाशी भी कहते है 

3. उर्वरक उद्योग – Fertilizer Udhyog 

1. BEC फ़र्टिलाइज़र
2. धरमसिंह मोरार जी केमिकल्स ( चिदंबरा केमिकल्स) कुम्हारी दुर्ग 

अन्य तथ्य : –

  • द्वितीय पंचवर्षीय योजना के अंतर्गत रायपुर में औद्योगिक क्षेत्र की स्थापना हुई ।
  • तृतीय पंचवर्षीय योजना के दौरान रायपुर में औद्योगिक विकास केंद्र की स्थापना हुई ।

Sugar Factory, Rice, Jute and Vastra Udhyog in Chhattisgarh

Sugar Factory, Rice, Jute and Cloth Udhyog in Chhattisgarh – इसके पहले भाग में हमने BALCO and Cement Udhyog in Chhattisgarh के विषय में पढ़ा । आज हम छत्तीसगढ़ के कृषि आधारित उद्योगों जैसे  कपड़ा (Cloth) उद्योग , जुट उद्योग, चांवल उद्योग एवं शक्कर कारखाने  के विषय में पढेंगे ।

छत्तीसगढ़ के कृषि आधारित उद्योग 

Sugar Factory, Rice, Jute and Vastra Udhyog in Chhattisgarh

सूती वस्त्र उद्योग – Cotton Textile Industry

BNC Mill – बंगाल नागपुर कॉटन मील
स्थापना – 1892
स्थान – राजनांदगांव 
पूर्व नाम – C.P. Mill
निर्माणकर्ता – जे.के. मैकवेथ कम्पनी मुंबई 
सहयोगी – राजनांदगांव रियासत के राजा बहादुर बलराम दास 

जूट उद्योग – Jute Industry

मोहन जूट उद्योग – Mohan Jute Mill
स्थापना – 1935
स्थान – रायगढ़ 
विशेष – छत्तीसगढ़ का एकमात्र जूट मील 

शक्कर कारखाना  – Sugar Factory

1. भोरमदेव सहकारी शक्कर कारखाना – Bhoramdev Cooperative Sugar Factory
स्थापना – 2002-03
स्थान – ग्राम  राम्हेपुर जिला कवर्धा 
विशेष – छत्तीसगढ़ का यह पहला शक्कर कारखाना है, शक्कर के सहउत्पाद से 6 मेगावाट बिजली का उत्पादन किया जाता है 

2. माँ महामाया सहकारी शक्कर कारखाना – Maa Mahamaya Cooperative Sugar Factory
स्थापना – 
स्थान – ग्राम  केरता – जिला सूरजपुर
3. माँ दंतेश्वरी सहकारी शक्कर कारखाना – Maa Danteshwari Cooperative Sugar Factory
स्थापना – 2009
स्थान – ग्राम करका भाठ जिला बालोद 
4. सरदार वल्लभभाई पटेल  सहकारी शक्कर कारखाना – Sardar Vallabhbhai Patel Cooperative Sugar Factory
स्थापना – 2017
स्थान – ग्राम बिसेसर पंडरिया जिला कवर्धा 
विशेष – शक्कर के खोई से 14 मेगावाट बिजली का उत्पादन किया जाता है 

प्रस्तावित शक्कर कारखाने 

1. अभनपुर – रायपुर
2. बरमकेला – रायगढ़  

चावंल उद्योग   – Rice Industries (Mill)

छत्तीसगढ़ में चावंल मील की संख्यां लगभग 1500 है, सर्वाधिक चांवल मील वाला जिला रायपुर है और सर्वाधिक चांवल मीलों का संकेन्द्रण जिला धमतरी है