Chhattisgarh Rajya ka Pratik , Rajkiy Pashu, aur Rajbhasha- Part 4

Chhattisgarh Rajya ka Pratik , Rajkiy Pashu, Pakshi, Vriksh aur Rajbhasha- Part 4: छत्तीसगढ़ राज्य का प्रतिक , राजकीय पशु, पक्षी, वृक्ष एवं राजभाषा आदि का विवरण हमारे इस लेख में वर्णित है।

Chhattisgarh Rajya ka Pratik , Rajkiy Pashu, Pakshi, Vriksh aur Rajbhasha- Part 4

Chhattisgarh Rajya ka Pratik , Rajkiy Pashu, aur Rajbhasha- Part 4
राज्य का प्रतीक

Chhattisgarh Rajya ka Pratik , Rajkiy Pashu, Pakshi, Vriksh aur Rajbhasha- Part 4

4 सितम्बर 2001 को राज्य शासन द्वारा राज्य का प्रतीक चिन्ह अपनाया गया । राज्प्रय के प्रतीक चिन्ह में समाहित सभी आकृति , रंग,अंक एवं चिन्हों का विवरण निम्नानुसार है :- 
  • वृत्ताकार परिधि ( Circle ) : यह राज्य के विकास के निरंतरता का प्रतीक है ।
  • 36 कीलें : (हरा रंग) राज्य की समृधि , वन संपदा एवं नैसर्गिक सुन्दरता का प्रतीक है ।
  • धान की बालियाँ : ( सुनहरा रंग ) कृषि प्रधान राज्य का प्रतिक है ।
  • विद्युत संकेत : ( नीला रंग ) उर्जा के रूप में राज्य का प्रतिक है ।
  • 3 लहराती रेखाएं : (तिरंगा का 3 रंग) जल संसाधन एवं नदियों का प्रतिक है ।
  • सारनाथ अशोक स्तम्भ : ( लाल रंग ) इसमें 3 शेर दृश्यमान है ।
  • भारत का आदर्श वाक्य : सत्यमेव जयते 
  • पृष्ठभूमि : इसका रंग सफ़ेद है ।   
राजभाषा – छत्तीसगढ़ी  
  • भाषा : छत्तीसगढ़ी 
  • स्वीकृति : 28 नवम्बर 2007
  • राजभाषा दिवस : 28 नवम्बर 
राजकिय पशु  – वन भैंसा 

Chhattisgarh Rajya ka Pratik , Rajkiy Pashu, Pakshi, Vriksh aur Rajbhasha- Part 4
  • स्वीकृति : जुलाई 2001 
  • मुख्यतः पाया जाता है – उदयन्ती अभ्यारण – गरियाबंद                        पामेड अभ्यारण एवं इन्द्रावती राष्ट्रिय उद्यान  – बीजापुर 
  • रिन्डर पेस्ट ( Rinder Pest ) नामक बीमारी इनका प्रमुख शत्रु है 
  • वैज्ञानिक नाम – Bubalus Bubalis
राजकिय पक्षी  – पहाड़ी मैना 

Chhattisgarh Rajya ka Pratik , Rajkiy Pashu, Pakshi, Vriksh aur Rajbhasha- Part 4

  • स्वीकृति : जुलाई 2001 
  • संरक्षण – कांकेर घाटी राष्ट्रिय उद्यान 
  • वैज्ञानिक नाम – Gracula Religiosa Peninsularis
राजकिय वृक्ष – साल ( सरई )
Chhattisgarh Rajya ka Pratik , Rajkiy Pashu, Pakshi, Vriksh aur Rajbhasha- Part 4
  •     सर्वोत्तम किस्म का साल कोंडागांव के केशकाल घाटी में पाया जाता है 
  •     विशेष : बस्तर को साल वनों का द्वीप कहा जाता है 
  •     वैज्ञानिक नाम – Shorea Robusta
राजकिय प्रमुख वाक्य 
  • राज्य का ध्येय वाक्य – \”सत्य और पारदर्शिता \”
  • राज्य सरकार का नया प्रतीक वाक्य –  \”विश्वसनीय छत्तीसगढ़\”
  • राज्य का पुलिस वाक्य – \”परित्राणाय साधुनाम\”
  • राज्य नगर सेवा का वाक्य – \”निष्काम सेवा\”
शासकीय भवनों के नाम 
  • मंत्रालय एवं सचिवालय – \”महानदी\”
  • संचालनालय – \” इन्द्रावती\”
  • विधानसभा भवन – \”मिनीमाता\”
  • खनिज भवन – \”सोना खान\”
  • जल संसाधन भवन – \”सिहावा\”
  • राज्य शासन का विश्राम गृह – \”पहुना\”
  • मुख्यमंत्री निवास – \”करुणा\”
  • विधान सभा अध्यक्ष निवास – \”संवेदना\”
  • विधायक विश्राम गृह – \”संगवारी\”
  • वन विभाग – \”अरण्य भवन\” 
शासकीय संस्थान
  • शासकीय मुद्रणालय – ग्राम \”चिखली\” राजनांदगांव 
  • ब्रेनलिपि प्रेस  – \” तिफरा\” बिलासपुर 
  • राजस्व मंडल मुख्यालय  – \”बिलासपुर \”
  • वन मुख्यालय  – \”रायपुर \”
  • औद्योगिक न्यायाधिकरण मुख्यालय  – \”रायपुर \”
  • पर्यावरण संरक्षण मुख्यालय  – \”भिलाई\”

Chhattisgarh-Subdivision, Tehsil and Block details- Part 3

Chhattisgarh-Subdivision, Tehsil and Block details- Part 3 : छत्तीसगढ़ के प्रशासनिक व्यवस्था को मुख्यतः 4 भागों में बांटा गया है, जिसमें से हमने संभाग और जिला की जानकारी का अध्ययन Part 1 एवं Part 2 में  कर चुके है । इस भाग में हम अनुविभाग , तहसील एवं विकासखंड का अध्ययन करेंगे । यह पूरी जानकारी आपके सभी पर्तियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण है विशेषतः CGPSC के लिए ।

Chhattisgarh-Subdivision, Tehsil and Block details- Part 3


Chhattisgarh-Subdivision, Tehsil and Block details- Part 3
3. अनुविभाग 
  • राजस्व इकाई में अनुविभाग जिलें से छोटी इकाई होती है ।
  • अनुविभाग के प्रमुख को (अनुविभागीय अधिकारी ) को SDM या SDO कहा जाता है। 
  • यह अधिकारी प्रशासनिक सेवा से होता है जिन्हें Deputy Collector कहा जाता है ।
  • वर्तमान में ( 2019) में अनुविभागों की संख्या 87 है ।
4. तहसील 
  • जिला बहुत से तहसीलों में बंटा हुआ होता है ।
  • तहसीलों का मुख्य तहसीलदार होता है। ( इसकी सिर्फ घोषणा हुई थी )
  • वर्तमान में ( 2019) में तहसीलों की संख्या 150+6 = 156  है ।
  • छत्तीसगढ़ में सर्वाधिक तहसील वाला जिला जांजगीर चाम्पा है जिसकी संख्या 10 है ।
  • छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा तहसील पोड़ी उपरोड़ा है जो कोरबा जिला में है ।
    संभाग में तहसीलों की संख्या का विवरण – यहाँ किल्क करें 

सरगुजा संभाग – 33     बिलासपुर संभाग -35     दुर्ग – 26 
जशपुर        – 8    जांजगीर-चाम्पा  – 10 राजनांदगांव  – 9
सरगुजा        – 7    रायगढ़          – 09 बालोद      – 5
बलरामपुर        – 6    कोरबा          – 05 बेमेतरा      – 5
सूरजपुर        – 6    बिलासपुर          – 08 कवर्धा      – 4 
कोरिया        – 6    मुंगेली          – 03 दुर्ग              – 3
बस्तर संभाग     –  33         रायपुर  संभाग     – 24
कांकेर             – 7 बलोदाबाजार          – 6
बस्तर            – 7 गरियाबंद               – 5
कोंडागांव              – 5 महासमुंद              – 5
बीजापुर             – 4 रायपुर                – 4
सुकमा             – 3  धमतरी               – 4
नारायणपुर            – 2
दंतेवाडा                – 5
5. विकासखंड
  • छत्तीसगढ़ में विकासखंड की संख्या (2019) 146 है ।
  • छत्तीसगढ़ में आदिवासी विकासखंड की संख्या (2019) 85 है ।
  • सर्वाधिक विकासखंड वाला जिला क्रमशः जांजगीर चाम्पा – 10, राजनांदगांव -9, रायगढ़ – 9 है । 
  • सबसे बड़ा विकासखंड – बिल्हा ( बिलासपुर जिला )
  • सबसे छोटा विकासखंड – नारायणपुर ( नारायणपुर जिला )
नोट: सुयोग्य कुमार मित्र (S.K. Mitra ) आयोग की रिपोर्ट 
छत्तीसगढ़ विकासखंड एवं तहसील पुनर्गठन हेतु S.K. Mitra  की अध्यक्षता में एक आयोग का गठन किया गया था – जिसकी रिपोर्ट के अनुसार आयोग द्वारा अनुशंसित —–
                                            वर्तमान             आयोग की रिपोर्ट 
तहसील की संख्यां –             150+6                    40
विकासखंड की संख्या –       146                        71   
तहसील तथा विकासखंड

                    संभाग         तहसील         विकासखंड
    1. रायपुर           24                24
    2. दुर्ग                26                25
    3. सरगुजा         32                32
    4. बस्तर            33                32
    5. बिलासपुर      35                33
महत्वपूर्ण नोट :- 

  • सर्वाधिक तहसील वाला संभाग  बिलासपुर 
  • सर्वाधिक तहसील वाला जिला  जांजगीर चाम्पा 
  • सबसे बड़ा तहसील  पोड़ी-उपरोड़ा (कोरबा)
  • सरगुजा संभाग – पुर्णतः आदिवासी विकासखंड 
  • बस्तर में बड़े बचेली को छोडकर सभी विकासखंड आदिवासी है 
  • कोरबा जिला पुर्णतः आदिवासी विकासखंड है 

नविन घोषित तहसील —-         

  1. चिरमिरी – कोरिया 
  2. भटगांव – बलोदा बाजार 
  3. लवण – बलोदा बाजार 
  4. गंडई – राजनांदगांव 
  5. रेंगाखार – कवर्धा 
  6. शिवरी नारायण – जांजगीर चाम्पा           
तहसील जिसका विकासखंड नहीं है  —-         
  1. बिलासपुर 
  2. जांजगीर
  3. थान खम्हरिया 
  4. बड़े बचेली 

छत्तीसगढ़ संभाग, जिला एवं तहसील लिस्ट

Chhattisgarh Division, District and Tehsil List 

छत्तीसगढ़ संभाग, जिला एवं तहसील लिस्ट :


छत्तीसगढ़ संभाग, जिला एवं तहसील लिस्ट


प्रशासनिक इकाई 


राजस्व इकाई      विकासात्मक    पंचायती राज        नगरीय निकाय 
संभाग                     जिला             जिला पंचायत         नगर निगम 
जिला                      विकासखंड    जनपद पंचायत      नगर पालिका 
अनुविभाग                                    ग्राम पंचायत          नगर पंचायत 
तहसील 
ग्राम                                                                                         
छत्तीसगढ़ संभाग, जिला 

एवं तहसील लिस्ट
छत्तीसगढ़ संभाग, जिला एवं तहसील लिस्ट

Chhattisgarh District Details Public Admn Brief Part 2

Chhattisgarh District Details Public Admn Brief  Part 2 : छत्तीसगढ़ राज्य की प्रशासनिक व्यवस्था के Part 1 के प्रशासनिक इकाई के भाग में हमने संभाग के बारे में पढ़ा अब हम उसके आगे जानेंगे 

Chhattisgarh District Details Public Admn Brief  Part 2

Chhattisgarh District Details Public Admn Brief  Part 2
प्रशासनिक इकाइयाँ 

2. जिला – District
  • जिला संभाग से छोटी इकाई होती है ।
  • जिले का शीर्ष अधिकारी एवं प्रथम नागरिक कलेक्टर (DM ) IAS Rank होता है ।
  • छत्तीसगढ़ राज्य के निर्माण के समय राज्य में जिलों की संख्या  16 थी  ।
  • वर्तमान में छत्तीसगढ़ राज्य के जिलो की संख्या 27 है ।
जिलों का इतिहास 

  • 1956 : 1956 में राज्य पुनर्गठन के समय मध्य प्रदेश राज्य के 6 जिले – रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग, बस्तर, रायगढ़ एवं सरगुजा जिला वर्तमान छत्तीसगढ़ राज्य के भूभाग को प्रदर्शित करता है ।
  • 1973 : दुर्ग जिले से विभाजित कर एक नया जिला राजनांदगांव बनाया गया था ।
  • 1991 : नए जिलों के निर्माण के लिए सिंहदेव कमिटी का गठन किया गया था ।
  • 1998 : 9 नयें जिलें अस्तित्व में आये – 
  1. सरगुजा से – कोरिया 
  2. बिलासपुर से – कोरबा एवं जांजगीर चाम्पा 
  3. रायगढ़ से – जशपुर 
  4. रायपुर से – धमतरी एवं महासमुंद 
  5. बस्तर से – कांकेर एवं दंतेवाडा 
  6. दुर्ग राजनांदगांव से – कवर्धा 
  • 1 नवम्बर 2000 : को छत्तीसगढ़ का गठन 16 जिलों के साथ हुआ था ।
  • मार्च 2003 : राज्य शासन द्वारा 3 जिलों का नाम परिवर्तन किया गया था ।
                    कवर्धा – कबीरधाम 
                    कांकेर – उत्तरी बस्तर 
                    दंतेवाडा – दक्षिणी बस्तर 
  • मई 2007  : 2 नयें जिलें अस्तित्व में आये – 
  1. बस्तर से – नारायणपुर 
  2. दंतेवाडा से – बीजापुर 
  • 31 दिसम्बर 2011 : राज्य में कुल 18 जिले थे ।
  • 1 जनवरी 2012 : 9 नए जिलों का गठन किया गया और राज्य में 18 जिलों से बढ़कर 27 जिलें हो गए थे ।
  1. सरगुजा से – सूरजपुर एवं बलरामपुर 
  2. बिलासपुर से – मुंगेली 
  3. दंतेवाडा से – सुकमा 
  4. रायपुर से – बलोदा बाजार एवं गरिया बंद 
  5. बस्तर से – कोंडागाँव 
  6. दुर्ग से – बेमेतरा एवं बालोद 
क्षेत्रफल के आधार पर जिलों का विवरण :-

1. राजनांदगांव         2. कोरबा                3. नारायणपुर     
4. बीजापुर               5. रायगढ़                6. जशपुर                
7. कांकेर                 8. कोंडागांव            9. बलरामपुर         
10. कोरिया            11. गरियाबंद          12. बिलासपुर     
13. सुकमा             14. सरगुजा            15. सूरजपुर       
16. महासमुंद         17. बलोदा बाजार   18. जांजगीर चाम्पा   
19. कवर्धा              20. धमतरी             21. बस्तर     
22. बालोद             23. दंतेवाडा            24. रायपुर         
25. बेमेतरा            26. मुंगेली                27. दुर्ग 
संभाग व तहसीलों  के आधार पर जिलों का विवरण :-

सरगुजा संभाग – 33     बिलासपुर संभाग -32     दुर्ग – 26 
जशपुर        – 8    जांजगीर-चाम्पा  – 10 राजनांदगांव  – 9
सरगुजा        – 7    रायगढ़        – 09 बालोद     – 5
बलरामपुर        – 6    कोरबा        – 05 बेमेतरा     – 5
सूरजपुर        – 6    बिलासपुर        – 05 कवर्धा     – 4 
कोरिया        – 6    मुंगेली         – 03 दुर्ग             – 3
बस्तर संभाग     – 25         रायपुर  संभाग     – 24
कांकेर             – 7 बलोदाबाजार          – 6
बस्तर            – 5 गरियाबंद               – 5
कोंडागांव              – 5 महासमुंद              – 5
बीजापुर             – 2 रायपुर                – 4
सुकमा             – 2  धमतरी               – 4
नारायणपुर            – 2
दंतेवाडा                – 2