Longitudinal Himalayas Ranges

Longitudinal Himalayas Ranges. – Interesting facts about the Longitudinal Himalayas Ranges that will surprise you.हिमालय पर्वतों का राजा की विशेष जानकारी ।

Longitudinal Himalayas Ranges

क्या आप हिमालय के तथ्यों, हिमालय पर्वतमाला के रूप, हिमालय की पृष्ठभूमि, नदियों और चोटियों की उत्पत्ति के बारे में जानते हैं, जो दुनिया में सबसे अलग और सबसे अच्छी है। 
हम सभी जानते हैं कि हिमालय दुनिया का सबसे ऊँचा पर्वत है और यहाँ की चोटी सबसे ऊँची है, जिसे माउंट एवरेस्ट का नाम दिया गया है, लेकिन इसके बारे में जानने के लिए और भी बहुत कुछ है, जिसके बारे में कुछ लोग जानते होंगे।
फिर भी, मैं आपको बताना चाहूंगा कि यह अपने आप में विशेष क्यों है और इसकी खासियत या रोचक तथ्य क्या है। हिमालय की गोद में कई राज छिपे हैं, जिन्हें जानना बेहद जरूरी है। यह जानकारी सामान्य ज्ञान से भी संबंधित है और शैक्षणिक दृष्टिकोण से यह बहुत महत्वपूर्ण है।
हिमालय भारत की उत्तरी-पूर्वी सीमाओं पर फैला हुआ है, जो तिब्बत, नेपाल और चीन से सटा हुआ है। इसकी सीमा पश्चिम से पूर्व की ओर फैली है, या हम कह सकते हैं कि यह सिंधु से ब्रह्मपुत्र नदी तक फैल हुई  है। 
हिमालय लगभग 2400 किमी में फैला हुआ है, इसकी चौड़ाई कश्मीर क्षेत्र में 400 किमी और अरुणाचल प्रदेश में 150 किमी है। हिमालय की विशेषता में, हम यह भी कह सकते हैं कि यह पश्चिमी भाग की तुलना में पूर्वी भाग में अधिक ऊँचाई है।

हिमालय के भागों का विवरण  

A .समानांतर श्रेणी (अनुदैर्ध्य Longitudinal ) में हिमालय को 3 भागों में बांटा गया है 
जिसका विवरण निम्नानुसार है :

1. हिमाद्री /आंतरिक या महान हिमालय ( Himadri/Inner or Great Himalaya ): 

हिमालय पर्वतमाला का उत्तरी भाग, जिसे हम महान हिमालय, आंतरिक हिमालय या हिमाद्री के रूप में जानते हैं। यह एक निरंतर सीमा है जिसमें सबसे ऊँची चोटियाँ हैं और लगभग 6000 मीटर की औसत ऊँचाई है।
हिमालय का यह भाग ग्रेनाइट पत्सेथरों से  बना हुआ है और यह भाग बर्फ से ढका है। इस भाग में कई ग्लेशियर भी हैं। लगभग हिमालय की सभी ऊंची चोटियाँ इस श्रेणी में आती हैं, जिनमें माउंट एवरेस्ट, कंचनजंगा, K2,धौलागिरी आदि प्रमुख हैं।
हिमालय पर्वतों का राजा की विशेष जानकारी - Longitudinal Himalayas Ranges
हिमालय पर्वतों का राजा की विशेष जानकारी – Longitudinal Himalayas Ranges

2. हिमाचल या निचला हिमालय ( Himachal or Lesser Himalaya ) : 

यह महान हिमालय ( Great Himalaya ) का निचला हिस्सा है, जो पूरी तरह से उबड़ खाबड़ पहाड़ों से घिरा हुआ है जिन्हें हिमाचल या कम/निचला हिमालय के नाम से जाना जाता है। यह श्रेणी कुछ ऐसे पत्थरों से बनी है जो टूट कर फिर से बन जाते है ।

इस रेंज की औसत ऊँचाई 3700 मीटर से 4500 मीटर तक है और इसकी औसत चौड़ाई लगभग 50 किलोमीटर है। पीर पंजाल श्रेणी हिमालय के इस भाग में सबसे लंबी और सबसे महत्वपूर्ण श्रेणी है ।
इसके अलावा, धौलाधर और महाभारत पर्वत भी कम/निचला हिमालय ( lesser Himalaya ) में महत्वपूर्ण हैं।

हिमाचल या कम/निचला हिमालय अपनी गोद में सबसे प्रसिद्ध घाटियों को रखता है, जिसमें कश्मीर की कांगड़ा घाटी और हिमाचल प्रदेश में कुल्लू शामिल हैं। यह भाग पहाड़ी क्षेत्रों के लिए लोकप्रिय है।

3. शिवालिक ( Shivalik ) : 


हिमालय के बाहरी या सबसे निचले हिस्से को शिवालिक के नाम से जाना जाता है। यह रेंज 10 से 50 किमी तक फैली हुई है और इसकी औसत ऊंचाई 900-1100 मीटर के बीच है।
यह भाग उन सभी बिखरे हुए तलछटों ( unconsolidated sediments ) से बनी है जो उत्तरी हिमालय से बहने वाली नदियों से आती हैं। इस क्षेत्र की घाटियाँ बड़े बड़े चट्टानों एवं जलोढ़ मिटटी आदि से घिरी हुई  हैं।
कम/निचला हिमालय और शिवालिक के बीच की अनुदैर्ध्य घाटी ( Longitudinal Valley ) को दून के नाम से जाना जाता है, इनमें से देहरादून, पाटलिदुन और कोटलिडुन प्रसिद्ध दून  हैं।
हमने  देखा की Longitudinal Himalaya के कितने भाग है और हर भाग की अपनी विशेषता है, आगे हम हिमालय की दूसरी Range के बारे में विस्तृत से पढेंगे । 
आशा करता हूँ की आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी अगर हाँ तो और अधिक जानकारी के लिए हमें follow करें ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s