Maurya Dynasty, Saatvahan, Vakatak and Gupta Dynasty of Chhattisgarh

Maurya Dynasty, Saatvahan, Vakatak and Gupta Dynasty of Chhattisgarh –  हमारे भारत के  इतिहास में जो भी घटित हुआ उसमें छत्तीसगढ़ का भी योगदान है । मौर्य काल से आधुनिक इतिहास तक, यहाँ तक की रामायण काल में भी छत्तीसगढ़ को जाना जाता था , उस समय दक्षिण कोशल के नाम से जान जाता था । 

Maurya Dynasty, Saatvahan, Vakatak, and Gupta Dynasty of Chhattisgarh 

Maurya Dynasty, Saatvahan, Vakatak and Gupta Dynasty of Chhattisgarh

महाजनपद काल , बौद्ध एवं जैन धर्म काल 
600 ई.पू. – 322 ई.पू. 

बौद्ध धर्म काल –  बौद्ध ग्रन्थ \”दीपदान\” में छत्तीसगढ़ का उल्लेख प्राप्त होता है। अवदान शतक के अनुसार गौतम बुद्ध ने सिरपुर की यात्रा की थी ।  नागार्जुन (बौद्ध भिक्षु ) सिरपुर विश्व विद्यालय के कुलपति थे । 

जैन धर्म काल   

  1. ऋषभ देव – जानकारी गूंजी / दमउदरहा ( सक्ति – जांजगीर चाम्पा )
  2. पार्श्वनाथ – नगपुरा (दुर्ग )
  3. महावीर स्वामी – आरंग ( रायपुर )
नोट : चेदी महाजनपद के अंतर्गत दक्षिण कोसल ( छत्तीसगढ़ ) को एक जनपद बनाया गया था एवं इसकी राजधानी शक्तिमती थी तथा यह क्षेत्र बुन्देलखण्ड का हिस्सा था ।

मौर्य वंश  काल – 322 ई.पू. – 185 ई.पू. 

ठठारी  अकलतरा ( जांजगीर चाम्पा ) : यहाँ से मौर्य कालीन सिक्के की प्राप्ति हुई है , यह पंचमार्क बनाने वाली आहत सिक्के है तथा बिलासपुर एवं रायगढ़ के बारगांव से भी मिली है । आहत मुद्राएँ तारापुर एवं उडेला ( रायपुर ) से प्राप्त हुए है ।

नोट : प्राचीन छत्तीसगढ़ का उत्तरी भाग मौर्य साम्राज्य में सम्मिलित थे जिसकी पुष्टि सम्राट अशोक के कलिंग अभिलेख से होती है ।

सातवाहन  वंश  काल – 72 ई – 200 ई. 


सातवाहन वंश की जानकारी का मुख्य स्रोत \”किकारी\” का काष्ठ स्तम्भ है जो जांजगीर चाम्पा में है ।
गूंजी का शिलालेख – यहाँ से वगदत्तश्री की जानकारी प्राप्त होती है ।
सातवाहन कालीन मुद्रा (स्वर्ण ) चाकरबेडा, मल्हार (बिलासपुर) जिले से प्राप्त हुई है ।
सातवाहन शासकों ने बौद्ध भिक्षु नागार्जुन के लिए 5 मंजिला संघाराम सिंहासन बनाया था ।
बूढीखार से सातवाहन कालीन मिटटी के मुहर प्राप्त हुए है इसमें वेदश्री लिखा हुआ है ।

कुषाण वंशीय स्त्रोत 

कुषाण वंश के प्रमाण तेलिकोट  खरसिया रायगढ़ से कनिष्क के तथा बिलासपुर जिले के कुछ स्थान से साक्ष्य प्राप्त हुए है ।
नोट : तेलिकोट में सिक्के की खोज पुरातात्विक विभाग के D.K. Shah के द्वारा खोजा गया है ।

मेघ वंश  – 100 ई. – 200 ई.  


छत्तीसगढ़ में मेघ वंश शासक शिवमेघ एवं यमेघ के सन्दर्भ में जानकारी प्राप्त होती है ।

वकाटक वंश  – 300 ई. – 400 ई.  


प्रमुख शासक – महेंद्र सेन , रूद्र सेन , प्रवर  सेन , नरेंद्र सेन , पृथ्वी सेन , हरिसेन ।
राजधानी – नंदीवर्धन ( नागपुर )
समकालीन वंश – गुप्त एवं नल वंश 
नोट : जब वकाटक वंश नष्ट होने को था तब गुलाम वंश ने शासन किया और गुलाम वंश को समाप्त कर गुप्त शासकों ने गुप्त वंश की नीवं रखी ।

गुप्त  वंश  – 319 ई. – 500 ई.  


समुद्रगुप्त – महासमुंद के कोपरा नामक ग्राम से समुद्रगुप्त की पत्नी रूपा देवी के साक्ष्य प्राप्त होते है । समुद्रगुप्त ने दक्षिण कोसल एवं महाकांतर (बस्तर ) को  विजय करने के पश्चात् अपने साम्राज्य में ब्रह्म मोक्ष निति के तहत सम्मिलित नहीं किया एवं इन्हें करद राज्य बनाकर छोड़ दिया ।
रामगुप्त – इसके सिक्के दुर्ग जिले के बानबरद से प्राप्त होता है । 
चन्द्रगुप्त II  –चन्द्रगुप्त II की बेटी प्रभावती का विवाह वकाटक शासक रुद्रसेन से हुआ । चन्द्रगुप्त II का धनुर्धारी सिक्का आरंग रायपुर से प्राप्त हुआ । 
कुमारगुप्त   –कुमारगुप्त का रत्न जड़ित \”मयूर\” सिक्का आरंग एवं पिटाईवल्ड रायपुर से प्राप्त हुआ । 
भानुगुप्त   –भानुगुप्त के एरन अभिलेख ( 510 ई. ) में शरभपुरीय राजा शरभराज का वर्णन है । 
गुप्तकालीन स्थल   –तालागांव का विष्णु मन्दिर, बरमकेला रायगढ़ केवतीन मन्दिर , गुप्तकालीन मन्दिर नागर शैली तथा लाल इंटों से बने थे । 
हम अगले भाग में छत्तीसगढ़ के क्षेत्रीय राजवंश के बारे में पढेंगे । 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s